विश्व का सबसे ऊंचाई पर पाए जाने वाला तीर्थ हेमकुंड साहिब

सबसे ऊंचाई पर पाए जाने वाला तीर्थ हेमकुंड साहिब

विश्व का सबसे ऊंचाई पर पाए जाने वाला तीर्थ हेमकुंड साहिब 

हेमकुंड साहिब चमोली जिले में स्थित है| यह जोशीमठ से 29 किलोमीटर की दूरी पर है| यह सिखों के प्रसिद्ध गुरुद्वारे तथा हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले लक्ष्मण जी का मंदिर यहां पर हजारों साल से अपनी महिमा बिखेरा रहा है| यहां सिखों के दसवें गुरु श्री गुरु गोविंद साहब जी ने तपस्या की थी | हेमकुंड साहिब 7 पर्वतों से घिरा हुआ है यह समुद्र तल से 4633 मीटर की ऊंचाई पर है| यहां एक प्रसिद्ध झील है जिससे हेम गंगा नदी निकलती है| जिसे लक्ष्मण गंगा भी कहते हैं यहां गोविंदघाट में जाकर अलकनंदा नदी में मिल जाती है| इस पवित्र स्थल की स्थापना 1930 में की गई थी |

इससे पहले इसे  लोकपाल तीर्थ भी कहते थे| इस गुरुद्वारे का संचालन 7 सदस्यों की टीम करती है| लाखों की संख्या में हजारों  श्रद्धालु यहां पर आकर गुरुद्वारे के दर्शन करते हैं |

परीक्षा की दृष्टि से संभावित प्रश्न

 प्रश्न 1- हेमकुंड साहिब किस जिले में स्थित है

 उत्तर- हेमकुंड साहिब चमोली जिले में स्थित है|

 प्रश्न 2- हेमकुंड साहिब समुद्र तल से कितनी ऊंचाई पर है?

 उत्तर- हेमकुंड साहिब समुद्र तल से 4633 मीटर की ऊंचाई पर है|

 प्रश्न 3- हेमकुंड साहिब के पास से कौन सी नदी निकलती है?

 उत्तर- हेमकुंड साहिब के पास से अलकनंदा नदी में मिलने वाली प्रसिद्ध नदी लक्ष्मण गंगा नदी निकलती है लक्ष्मण गंगा नदी का दूसरा नाम हेम गंगा है|

 प्रश्न 4- हेमकुंड साहिब का प्राचीन नाम क्या था?

 उत्तर- हेमकुंड साहिब का प्राचीन नाम लोकपाल तीर्थ था|

 

Leave a Reply